Astrohub - Astrology Horoscope Discussion

Please tell me how good or bad is having the Sun, Mars, Rahu and Venus in the seventh house in the sign of Scorpio for someone with Taurus ascendant?

Answer
1 Answer
Share:

सातवें भाव में सूर्य शुक्र राहु मंगल का फल चतुर्थ ग्रही योग के प्रभाव से आता है खासतौर से शुक्रवार आशिका होकर के सप्तम भाव में दांपत्य जीवन और व्यापार में सबसे अच्छी उन्नति का कारक बन जाता है और सूर्य स्वास्थ्य का कारक हो जाता है राहु के साथ सूर्य होने से अंगारक योग भी बनता है और मंगल दोष का प्रभाव कम हो जाता है इससे दांपत्य जीवन में तनाव कम होते हैं और मंगली होने का प्रभाव कम से कम प्राप्त होता है शुक्र लाइफ़स्टाइल का सूर्य ऊर्जा का और मंगल स्थिरता का कारक हो करके राहु के साथ बैठकर उन्नति में क्रमबद्ध फल प्रदान करता है क्योंकि सूर्य लग्न को उच्च राशि से देख रहा होता है नीच भंग राज योग सूर्य का और मंगल के साथ होने पर स्थिर कारक योग बना कर के आर्थिक स्थिति बहुत ही अच्छे से बलवान करता है विशेष तौर से निरंतर इनकम का स्रोत बना होता है और इसका फल लक्ष्मी योग के तरह से ही प्राप्त होता है यह योग व्यापार के लिए सबसे अच्छा सफलता का कारक होता है अर्थात व्यापार में सबसे अधिक सफलताएं प्राप्त होती हैं शुक्र मंगल के प्रभाव से और शुक्र के स्वराशि पर होने के कारण से और सातवां स्वयं का भाव उच्च राशि का फल शुक्र प्राप्त कर आता है और शनि साढ़ेसाती अथवा शनि ढैया का फल नकारात्मक बहुत काम आता है विशेष तौर से राहु का फल और भी अच्छा हो जाता है क्योंकि राहु प्रथम भाव से इनकम भाव को दृष्टि देता है मंगल कर्म को सबसे अधिक बल देता है और तुला राशि का बैठा हुआ मंगल कर्म को उच्च राशि से तथा धन भाव को सबसे अधिक प्रभावित करता है राहु पराक्रम का मूल त्रिकोण में दृष्टि दे कर के समाज में मान-सम्मान का कारक बनता है विशेष तौर से मंगल का फल और राहु का फल सप्तम भाव में परिवार में जिम्मेदारी का सबसे अच्छा कारण बनाता है